Untitled Document
SLEEP APNOEA(खर्राटे की बीमारी)

sleepap2.jpgस्लीप एप्निया (SLEEP APNOEA)
स्लीप एप्निया का अर्थ है सोते समय कुछ समय के लिए सांस का रुकना. सामान्य रूप से सोते समय सांस नाक या मुहं द्वारा गले से होती हुई अन्दर या बाहर आती जाती है . स्लीप एप्निया के रोगी में कुछ देर के लिए सांस या तो बिलकुल अन्दर नहीं जा पाती (sleep apnoea) या आधी से भी कम मात्रा में अन्दर जाती है (hypopnoea). स्लीप एप्निया दो प्रकार का होता है.
१. ऑब्सट्रक्टिब स्लीप एप्निया (OSA) - इसमें सोते समय गले के हिस्से वाली सांस की नली कुछ देर के लिए अन्दर से संकरी या बंद हो जाती है जिस कारण से सांस अन्दर नहीं जा पाती है.
२. सेन्ट्रल स्लीप एप्निया (CSA) - इसमें सोते समय रोगी के ब्रेन का सांस पर कन्ट्रोल अनियमित हो जाता है जिस कारण से सांस बीच बीच में रुक जाती है.
स्लीप एप्निया के लक्षण –

  1. जोर से खर्राटे आना,
  2. रात में सोते सोते सांस का रुक जाना,
  3. रात्रि में बार बार पेशाब आना,
  4. सुबह सर में दर्द होना,
  5. सुबह उठने पर ताजगी महसूस न करना या दोबारा सोने की इच्छा करना,
  6. दिन में ज्यादा नींद आना,
  7. याददाश्त में कमी आना,
  8. एकाग्रता में कमी,
  9. डिप्रेशन,
  10. कमजोरी,
  11. अनियंत्रित ब्लड प्रेशर, अनियंत्रित मधुमेह (डायबिटीज़)

कुछ लोगो में स्लीप एप्निया का खतरा अन्य लोगो से ज्यादा होता है, जैसे की- उम्र बढने के साथ स्लीप एप्निया का खतरा बढ़ जाता है. पुरुषों में स्लीप एप्निया महिलाओं की अपेक्षा ज्यादा होता है. मोटे लोगो में स्लीप एप्निया ज्यादा होता है, बजन बढने के साथ स्लीप एप्निया का खतरा भी बढता जाता है. जो व्यक्ति शराब पीते हैं, धूम्रपान करते हैं या नींद की दवा खाते हैं उन्हें स्लीप एप्निया का खतरा बढ़ जाता है. कुछ लोगों में चेहरे, सर और गले की बनाबट में कमी के कारण भी स्लीप एप्निया हो सकता है.
स्लीप एप्निया से होने वाले खतरे –

  1. स्लीप एप्निया के रोगी की एकाग्रता में कमी आ जाती है और दिन में भी नींद आती है जिस कारण से सड़क दुर्घटना और काम करते समय कोई दुर्घटना होने का खतरा बढ़ जाता है.
  2. अनियंत्रित ब्लड प्रेशर, अनियंत्रित डायबिटीज़, ह्र्दय की धड़कन अनियंत्रित होना, हार्टअटैक व हार्टफेल और स्ट्रोक (फालिज) का खतरा बढ़ जाता है.

स्लीप एप्निया डायग्नोसिस –

  1. ऊपर लिखे स्लीप एप्निया के लक्षण
  2. मेडिकल चेकअप- शारीरिक बनाबट – निचले जबड़े का छोटा होना या ऊपरी जबड़े की तुलना में निचले जबड़े का पीछे की तरफ होना, जीभ का बड़ा होना, तालू के मुलायम हिस्से (soft palate) का बड़ा होना, टोंसिल का बड़ा होना आदि.
  3. अनियंत्रित ब्लड प्रेशर, अनियंत्रित डायबिटीज़, अनियंत्रित ह्र्दय की धड़कन, हार्टफेल, हाइपोथायरायड (hypothyroid) के रोगी.
  4. गर्दन की नाप (neck size) पुरुषों में १७ इंच और महिलाओं में १६ इंच से ज्यादा.
  5. वजन ज्यादा होना (मोटापा).
  6. स्लीप स्टडी / पौलिसोम्नोग्राफी (SLEEP STUDY / POLYSOMNOGRAPHY) – स्लीप एप्निया को पता करने के लिए इस जाँच का होना आवश्यक है. यह जांच स्लीप लैब में की जाती है. इसमें सोते समय रोगी के शरीर में विभिन्न सेंसर लगा दिए जाते हैं, जो रोगी की सांस, आक्सीजन, खर्राटों की आवाज, ह्रदय की धड़कन, ई. ई. जी., शरीर की करवट की स्थिति आदि गतिविधियों को पता लगते हैं.  इन सेंसर को एक कंप्यूटर से जोड़ दिया जाता है. कंप्यूटर में शरीर की सारी गतिविधि रिकार्ड हो जाती है और इन गतिविधियों के व्यापक अध्यन से स्लीप एप्निया का पता लगाया जा सकता है.

स्लीप एप्निया का इलाज़ –

  1. वजन को नियन्त्रित करें
  2. मोटा तकिया न लगायें
  3. एक करवट से लेटें
  4. थायरायड, ब्लडप्रेशर, मधुमेह आदि को नियन्त्रित करें
  5. धूम्रपान व शराब का सेवन न करें
  6. ऐसी दवा का इस्तेमाल न करें जिससे नींद आये
  7. CPAP (continuous positive airway pressure) मशीन – यह आज के समय में सबसे अच्छा और कारगर इलाज है. इस मशीन को एक नली और मास्क के द्वारा नाक या चेहरे पर लगा दिया जाता है. इस मशीन से एक निश्चित प्रेशर के साथ हवा बाहर आती है, जो गले के भाग में सांस की नली को बंद होने से रोकती है, और सांस सामान्य रूप से अन्दर और बाहर आती है.cpap.jpg
  8. Mandibular advancement devices and oral appliances – आपरेशन द्वारा निचले जबड़े को आगे कर दिया जाता है, या मुहँ के अन्दर ऐसी डिवाइस लगा दी जाती है जिससे जीभ आदि गले के रास्ते को अवरुद्ध नहीं करती है और सांस की नली सामान्य रूप से खुली रहती है

डॉ. रजत अग्रवाल एम. डी. 
Rajat Lung Care Centre, McNair Road
Bareilly

(यू टयूब पर स्लीप एप्निया के वीडियो उपलब्ध हैं जिन को देख कर इसके मेकैनिज्म की जानकारी की जा सकती है एवं C- PAP कैसे काम करता है यह समझा जा सकता है.) 

 
Copyright © 2012 www.healthhindi.com   Developed By JPG Technosoft Pvt Ltd Bareilly